शतरंज के मोहरो की चाल

Topic 01.02 शतरंज के मोहरो की चाल

शतरंज के प्रत्येक मोहरे का चलने का अलग-अलग तरीका होता है। विरोधी के मोहरे को काटने की स्थिति को छोड़कर चालें हमेशा किसी न किसी रिक्त वर्ग में ही चली जाती हैं।

घोड़े के अपवाद को छोड़कर मोहरे एक-दूसरे के ऊपर से नहीं गुजर सकते. जब कोई मोहरा कटता है (या उठाया जाता है) तो हमलावर मोहरा दुश्मन के मोहरे के उस वर्ग में स्थापित हो जाता है (एन-पासेंट नियम की अपवाद स्थिति को छोड़कर). काटे हुए मोहरे को इस प्रकार खेल से हटा दिया जाता है और शेष खेल के दौरान ये वापस नहीं आ सकते. बादशाह को शह दिया जा सकता है किंतु उसे काटा नहीं जा सकता।

01.02.01 राजा / बादशाह / King : क्षैतिज, सीधा अथवा तिरछे रूप से किसी भी ओर केवल एक वर्ग चल सकता है। बादशाह को, प्रत्येक बाजी में अधिक से अधिक एक बार विशेष चाल चलने की इजाजत होती है जिसे कैसलिंग या किलाबंदी कहते हैं।

01.02.02 हाथी / किश्ती / Rook : क्षैतिज तथा सीधी दिशा में किसी भी ओर किसी भी रिक्त वर्ग में किश्ती की चाल चली जा सकती है। इसे कैसलिंग के दौरान भी चला जाता है।

01.02.03 : ऊँट / फील / Bishop : ऊँट तिरछी दिशा मे किसी भी रिक्त वर्ग मे चाल चल सकता है।

01.02.04 : मंत्री / वजीर / रानी / Queen : यह किसी भी रिक्त वर्ग में तिरछे, क्षैतिज अथवा सीधा चला जा सकता है।

01.02.05 : घोड़े / kNight को निकटतम समान रैंक, फाइल, अथवा तिरछे वर्ग में नहीं चला जा सकता। इसकी चाल में कोई भी अन्य मोहरा रुकावट नहीं बन सकता अर्थात नए वर्ग में जाने के लिए यह छलांग लगाता है। घोड़ा दो कदम एक दिशा में, फिर 90° का एक कोण बनाकर एक कदम नई दिशा में “एल L“ अथवा “7” की आकृति बनाकर चलता है। दूसरे शब्दों मे घोड़ा दो वर्ग किश्ती की तरह चलकर तब एक वर्ग लंबवत् चलता है अर्थात घोड़ा ढाई घर चलता है।

01.02.06 : सैनिक / सिपाही / प्यादा / Pawn : इसके चाल का नियम सबसे जटिल होता है।

01.02.06A : यदि वर्ग रिक्त हो तो प्यादा आगे की ओर एक वर्ग चल सकता है। सिपाही के शुरुआती स्तर पर तथा सामने के दो वर्गों के रिक्त होने की स्थिति में यह दो वर्ग भी चल सकता है।

01.02.06B : प्यादा पीछे की ओर नहीं चल सकता.

01.02.06C : प्यादे एकमात्र ऐसे मोहरे होते हैं जो विरोधी के मोहरे को काटने के लिए अपनी सामान्य चाल से अलग चाल चलते हैं। दुश्मन के किसी मोहरे को वे तभी काट सकते हैं जब वह इसके ठीक सामने वाले वर्ग के दाएं या बाएं आसन्न वर्ग (अर्थात उनके सामने तिरछे रूप से वर्ग मे स्थित हो। (किंतु इन स्थानों के रिक्त होने की स्थिति में ये उनमें नहीं जा सकते

01.02.06D : प्यादे जब आठवे रैंक मे पहुंचता है, तो यह तरक्की करके मंत्री, हाथी, ऊँट या घोड़ा बनता है। यह खिलाड़ी का खुद का निर्णय होता है कि उसको किस मोहरे कि जरूरत है।

01.02.06E : एन-पासेंट नियम : जब एक खिलाड़ी का कोई सिपाही पांचवे रैंक मे हो और विपक्षी खिलाड़ी ठीक उसके बगल वाले फ़ाइल का सिपाही दो घर / वर्ग चलता है, तब सिर्फ और सिर्फ अगले चाल मे पहले खिलाड़ी का सिपाही विपक्षी खिलाड़ी के सिपाही को काट सकता है। उदाहरण के लिए : सफ़ेद खिलाड़ी का सिपाही a2 पर है और काले खिलाड़ी का सिपाही b4 पर है। अब सफ़ेद खिलाड़ी a4 चलता है, तो सिर्फ और सिर्फ अगले चाल मे विपक्षी खिलाड़ी सिपाही को a3 पर चलकर एन-पासेंट नियम के तहत सफ़ेद खिलाड़ी के सिपाही को काट सकता है।